Sunday, December 27, 2009

मधुबाला -पांच

मधुबाला की अंतिम पांचवीं किस्त
निष्कर्ष

अब भी नयी पीढ़ियां जिसके भित्ति -चित्र लटकाती है ,
घर में घुसते सबसे पहले दृष्टि उसी पर जाती है ।

मधुशाला में , नटशाला में ,सुर संगीतालय में है ,
वह आंखों में पट्टी बांधे देखो न्यायालय में है ।

मधु का चित्र नहीं बनता है ,मधुशाला का कैसा चित्र ?
अरे चषक को कौन देखता ? मधुबाला के चित्र विचित्र ।

मधुशाला जड़ ,मधु जड़ ,जड़ है रौनक ,जड़ है मधु-प्याला
पीनेवाला भी अधजड़ है , पूरी जीवित मधुबाला ।।

जन्म न लेती और न मरती ,ना बूढ़ी हो पाती है ,
मधुबाला कहते ही मन में षोड़सबाला आती है ।

सबके सपने में आती है सबके मन में रहती है ,
चाहे मन बंजर हो वह तो ,अमिय-सरित सी बहती है ।

लोक है मधुशाला तो लौकिक ललक ,लालसा ,लोभ भी हो ,
यही सोचकर परलौकिक ने भिजवायी है ‘ मधुबाला ‘ ।

11 comments:

  1. बहुत अच्छी रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  2. जन्म न लेती और न मरती ,ना बूढ़ी हो पाती है ,
    मधुशाला कहते ही मन में षोड़सबाला आती है ।....waah

    ReplyDelete
  3. सभी टिप्पणिकारों का हार्दिक धन्यवाद!
    नववर्ष की असंख्य शुभकामनाएं स्वीकारें।

    ReplyDelete
  4. मधुशाला जड़ ,मधु जड़ ,जड़ है रौनक ,जड़ है मधु-प्याला
    पीनेवाला भी अधजड़ है , पूरी जीवित मधुबाला ।।

    ReplyDelete
  5. madhubala ko bilkula naye andaz ,ein pesh kiya hai sir. badhai..

    ReplyDelete
  6. लोक है मधुशाला तो लौकिक ललक ,लालसा ,लोभ भी हो ,
    यही सोचकर परलौकिक ने भिजवायी है ‘ मधुबाला ‘ ।
    Behad sundar...!

    ReplyDelete
  7. सबके सपने में आती है सबके मन में रहती है ,
    चाहे मन बंजर हो वह तो ,अमिय-सरित सी बहती है ।

    अमर पंक्तियां

    ReplyDelete
  8. "सबके सपने में आती है सबके मन में रहती है ,
    चाहे मन बंजर हो वह तो ,अमिय-सरित सी बहती है ।

    लोक है मधुशाला तो लौकिक ललक ,लालसा ,लोभ भी हो ,
    यही सोचकर परलौकिक ने भिजवायी है ‘ मधुबाला ‘ ।"
    वाह वह - बहुत खूब - आपके ब्लॉग पर आना सुखद लगा

    ReplyDelete
  9. interesting blog, i will visit ur blog very often, hope u go for this website to increase visitor.Happy Blogging!!!

    ReplyDelete